भारत में कोरोना वायरस के टीके आने में कितना समय

[social-share-display display="1589024194"]

India Ministry of Health की माने तो अभी तक 39834 कोरोना वायरस केसेस सामने आ चुके है।
जिनमे से 17846 ठीक भी हो चुके है जो की इंडिया के लिए अच्छी खबर है। यह आकड़ा बाकि देशो से काफी अच्छा है।
भारत में रिकवरी दर लगभग 29 % है।

Covid-19 Active Cases in India

कोरोना वायरस के ठीके की तैयारी

दुनिया में Corona Virus का Vaccine बनाने की तैयारी जोरो से है। जहा इस्रइले और इटली ने बनाने का दावा किया है वही इंग्लैंड इसकी ट्रायल कर रहा है। इस सबके बीच भारत जो की सबसे ज्यादा वैक्सीन बनाता है। उसकी तैयारी कहा पर है? आइये देखते है।

Serum Institute of India जो की दुनिया की सबसे ज्यादा ठीके बनती है। Covid-19 की Vaccine बनाने में भी बड़ा योगदान कर रही है।

इसके लिए उन्होंने अमेरिकन कंपनी Codagenix की साथ वैक्सीन बनाने का सौदा किया है।

अदार पूनावाला, जो कि Serum Institute of इंडिया के CEO है। उनका कहना है। कि “ ऐसी सेकड़ो कम्पनिया है जो ऐसा वैक्सीन बनाती और विकसित करती है। पर बहुत कम कम्पनिया है। जो सस्ते दामों में वैक्सीन तैयार करती है। इनमे से एक हमारी भी है।

Adar Poonawalla

दुनिया में बनने वाली ज्यादातर वैक्सीन इंडिया में ही बनती है। अभी कुछ समय पहले आयी Rotavirus वैक्सीन इसका सबसे बड़ा उदाहरण है।

यह टिका बच्चो में लगता है तथा दस्त होने से रोकता है। और हर साल हजारो जाने बचती है। अमेरिका से समझौता कर यह वैक्सीन बनायीं गयी है इस वैक्सीन को भारत बायोटेक बनाती है। इसका एक और उदाहरण पोलियो का टिका भी है।

इन सफलताओ कि बाबजूत भारत अपना कोरोना वायरस का टिका बनाने में अभी पीछे है। कोरोना वायरस का टिका बनाने और विकसित करने में अभी सरकारी मदद की बहुत जरुरत है।

Indian institute of Science से प्रो राघवन वर्धराजन कहते है ” कोरोना वायरस शोध के लिए सरकार को आर्थिक मदद करनी चाहिए तभी इसके अच्छे परिणाम आ सकते है। और यह शोध विफल भी हो सकती है। इसके लिए भी हमें तैयार रहना चाहिए।

कोविद १९ की वैक्सीन के लिए भारत सरकार ने भी आवेदन किये है। और लगभग आधा दर्जन कम्पनियों को आर्थिक मदद भी की है।

पर scientist और विशेषज्ञों की माने तो आपसी सहयोग से ही सफलता मिलती है।

uttarakhand corona case

दुनिया के विकसित देशो की ठीके बनाने की दौड़ को सस्ते दामों में वैक्सीन तैयार करना भारत का बड़ा योगदान होगा।

अभी तक लगभग 100 कम्पनिया टिका बना चुकी है और अभी ट्रायल में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगो को दी जा रही है। सइंटीस्टो का मानना है कि सितम्बर तक Vaccines आ जायेंगे पर विशषज्ञों की माने तो इस साल कि अंत तक सबके लिए टिका आना मुश्किल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *