Afghanistan की ताज़ा ख़बर : अब कैसे है Afghanistan में हालात ?

अमेरिकी सैनिको के अफगानिस्तान से बाहर जाने के फैसले के बाद तेजी से पैर पसारते  हुए तालिबान ने महज कुछ हफ़्तों के भीतर देश की राजधानी काबुल पर कब्ज़ा कर लिया है

इसके बाद राष्ट्रपति असरफली देश छोड़ कर भाग गए हैं। और तालिबान ने कहा है की बीस साल के इंतजार के बाद वो सत्ता के बेहद करीब पहुंचा है

तालिबान ने यहाँ एक के बाद एक शहर पर कब्ज़ा किया है कई शहरों के गवर्नरों ने उनके सामने आत्मसमर्पण कर दिया और उसके लड़ाकों को कोई संघर्ष नहीं करना पड़ा इस बीच कई देश काबुल में मौजूद अपने दूतावासों से अपने राजनयिकों और नागरिकों को निकालने की कोशिशे तेज कर रहे हैं।

राजधानी में अफरा तफरी का माहौल देखने को मिल रहा हैऔर लोग देश छोड़ने को भाग रहे हैं  अफगानिस्तान को लेकर चौतरफा आलोचनाओं से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति जोबाइडन से पूर्व राष्ट्रपति डोनॉल्ट ट्रम्प ने इस्तीफे की मांग की है

उन्होंने दावा किया की अगर वो राष्ट्रपति होते तो अमेरिका का वहां से निकलना बेहद अलग और बहुत सफलता पूर्वक होता वही बाइडन प्रशासन ने उन पर जवाबी हमला करते हुए कहा है की अमेरिका और तालिबान के बीच समझौता ट्रम्प के राष्ट्रपति कार्यकाल के दौरान ही हुआ था अफगानिस्तान से भागने के  बाद राष्ट्रपति असरअफ़गनी ने शोशल मीडिया पर एक बयान जारी करते हुए कहा की देश में रक्तपात रोकने के लिए उन्होंने ये कदम उठाया है

अफगानिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति हामिद कदजी ने एक वीडियो पर जारी करते हुए अपने प्रसंसको से कहा की वो काबुल में ही रहेंगे। अमेरिका के देश में सैन्य अभियान के बाद 2001 में कड़जई देश के नेता बने थे काबुल अंतरास्ट्रीय हवाई अड्डे पर सभी कर्मशल उड़ानों को निलंबित कर दिया गया वहाँ से  केवल सैन्य विमानों के संचालन की अनुमति दी गयी है

इससे पहले तालिबान ने दावा किया की उसने काबुल में राष्ट्रपति भवन को अपने नियंतरण  में ले लिया है इसके कुछ घंटो बाद अल्फ जगीरा ने एक वीडियो जारी किया जिसमे तालिबान के लड़ाके राष्ट्रपति भवन के भीतर नजर आये।

तालिबान ने ये दावा भी किया की उसने काबुल  के कई जिला केन्द्रो  में अपनी पहुँच बना ली है और उनमे से ११ को अपने नियंतरण में ले लिया है। अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनीबिलिन्कन ने कहा की अमेरिका ने अफगानिस्तान स्थित अपना दूतावास काबुल एयरपोर्ट पर शिफ्ट कर दिया है

इससे पहले तालिबान ने दावा किया की उसने काबुल में राष्ट्रपति भवन को अपने नियंतरण  में ले लिया है इसके कुछ घंटो बाद अल्फ जगीरा ने एक वीडियो जारी किया जिसमे तालिबान के लड़ाके राष्ट्रपति भवन के भीतर नजर आये।

तालिबान ने ये दावा भी किया की उसने काबुल  के कई जिला केन्द्रो  में अपनी पहुँच बना ली है और उनमे से ११ को अपने नियंतरण में ले लिया है। अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनीबिलिन्कन ने कहा की अमेरिका ने अफगानिस्तान स्थित अपना दूतावास काबुल एयरपोर्ट पर शिफ्ट कर दिया है

दूतावास की ईमारत पर लगा झंडा भी उतारकर एयपोर्ट ले जाया गया है बाद में इसे अफगानिस्तान से हटा लिया जाएगा भारतीय समयानुसार रविवार देर शाम तक अफगानिस्तान के राष्ट्रपति असरअफ़गनी और उपराष्ट्रपति अमीर उल्लाहसाले ने देश छोड़ दिया था दूसरी तरफ तालिबान ने  एक बयान जारी करके कहा की उसके लड़ाके आधिकारिक तौर पर काबुल के इलाको में दाखिल हो रहे हैं।  और दफ्तरों को कब्जे में ले रहे हैं

तालिबान के कब्जे में आने और अफगान राष्ट्रपति के देश छोड़ने के बाद वहाँ कई जगहों पर गोलियों की आवाजे सुनी गयी रविवार को अफगानिस्तान में तेजी से बदलते घटनाकर्म के बीच ब्रिटेन सरकार ने अफगानिस्तान के छात्रों की सिवनिग इस्कोलर सिप रोक दी। और कहा की अगले महीने से ब्रिटेन में इस्कोलर सिप पर पढ़ने जा रहे  छात्रों का अब दाखिला नहीं हो पायेगा हालाँकि इसके कुछ घंटो बाद ब्रितानी प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा की ऐसे अफगान छात्रों की मदद के लिए उन्हें वीजा देने की कोशिश की जाएगी।

सरकार के इस फैसले का असर पैंतीस अफगान छात्रों पर पड़ेगा । जिनमें से लगभग आधी महिलाएं हैं तालिबान ने काबुल के बाहरी इलाके में मौजूद बगराम एयरफील्ड और जेल को कब्जे में लेने का दावा किया इसी सैन्य हवाई अड्डे से अमेरिका ने अफगानिस्तान में अपने बीस साल चले युद्ध को संचालित किया था अफगानिस्तान के कार्यवाहक ग्रहमंत्री अब्दुलसरतार ने बीनस्कावल ने टोलो न्यूज़ में कहा की सत्ता का हस्तान्तरण शांति पूर्ण तरीके से होगा और अंतरिम सरकार बनेगी।

अफगानिस्तान की महिला सांसद फरजाना  कोचाई ने बीबीसी से कहा  है की  लोग काबुल छोड़कर भागने की कोशिश कर रहे है लेकिन भागने के लिए कोई जगह ही नहीं बची है उन्होंने बीबीसी से कहा की तालिबान के नियंतरण में आने वाले इलाकों में महिलाओं ने काम पे जाना बंद कर दिया ह। वो स्कूल और दफ्तर नहीं जा रही हैं अफगानिस्तान में तेजी से बदलते घटनाकर्म को देखते हुए अमेरिका ने अपने नागरिकों की सुरक्क्षा के लिए अतिरिक्त जवान काबुल भेजे दूसरी तरफ अमेरिका अपने नागरिकों और दूतावास कर्मचारियों को भी काबुल से तेजी से निकालने के काम में जुट गया।

रविवार को अफगानिस्तान की राजधानी काबुल से महज कुछ घंटों  की दूरी पर मौजूद  जलालाबाद शहर पर कब्ज़ा करने के बादतालिबान के लड़ाके बाहरी इलाकों तक पहुँच गए इससे एक दिन पहले तालिबान ने मजार ऐ सरीफ शहर पर कब्ज़ा कर लिया था।

इसके बाद तालिबान ने कहा की वो अफगान सरकार  के साथ शांतिपूर्ण सत्ता हस्तांतरण को लेकर बातचीत कर रही है और जब तक बातचीत जारी हैउसके लड़ाके राजधानी में प्रवेश नहीं करेंगे तालिबान की तरफ से जारी किये गए आधिकारिक बयान में कहा है की काबुल एक घनी आबादी वाला शहरी इलाका  है जहाँ नागरिक आबादी को खतरा हो सकता है इसी दौरान अफगान राष्ट्रपति असरअफ़ग़ानि ने भरोसा दिलाया कि राजधानी में स्थिति नियंतरण में है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *