Bharat china news: गलवान घाटी व लद्दाख में चीन ने बढ़ाई अपनी सेना | उत्तराखंड बॉर्डर में भी चीन के फौजे

Bharat china news: चीन-भारत सीमा विवाद एक बार फिर बढ़ गया है। पिछले कुछ दिनों से चीन के सैनिक लदाख से ले कर उत्तराखंड के सीमा तक बॉर्डर में घुसने की कोशिश कर रहे है। चीन की सेना ने 1962 में भारत से मुँह से खाने के बाद बहुत से कोशिशे की है।

परन्तु भारत की मुस्तैदी और भारत के जवानो के आगे उनकी एक न चली।  कोरोना के चलते चीन से बहुत सारी कम्पनिया भारत की तरफ आ रही है। और ये बात चीन के सीनियर लीडर के गले नहीं उतर रही है। जिसके कारण अब वो भारत को परेशान करने के इरादे से सीमा पर अपने सैनिक भेज रहे है।

Bharat-china-news

इधर भारत की तरफ से चीन सेनाओ को मुँह तोड़ जवाब मिल रहा है और भारत के सैनिक भी पूरी मुस्तैदी के साथ सीमा पर तैनात है।

चीन , गलवान घाटी को अपना बता रहा है जिसके चलते चीन ने लदाख में लगभग 80 टेंट लगाए है वहीं भारत की तरफ से भी भारतीय सीमा पर 60 तम्बू गाड़े गए है।

5 मई को भारत और चीन के बीच हिंसक झडप हुई थी झडप में दोनों ओर के सैनिक घायल हुए थे चीन ल ए सी से सटे इलाकों में भारत के निर्माण कार्य से नाराज है,

india china border

सीमा पर ऐसा तनाव पहले भी देखने को मिलता था और अब भी देखने को मिल रहा है।

इस बार चीन कुछ नई चालें चल रहा है 

उत्तराखंड राज्य से बाहर फसें लोगो के लिए अच्छी खबर

Sonu Sood: A Real Hero |Help line number 18001213711

·      चीन ने लद्दाख से जुडी सीमा पर अपनी सैनिक गतिविधिया बढ़ाई है।

·      चीन ने पांगोंग झील में भी अपने सेनिको की संख्या बढ़ाई है।

·      चीनी सेना के गलवान घाटी में 80 से ज्यादा टेंट खड़े किये है।

·      इन सब के बाबजूद चीन भारत को इसका जिम्मेदार मान रहा है।

·      गलवान घाटी जो की भारत का एक हिस्सा है चीन उसे अपना इलाका मान रहा है।

·      भारत गलवान घाटी पर निर्माण का कार्य कर रहा है जिसके चलते चीन इससे सहमन नहीं है। 

ladakh village

ये भी सुनने में आ रहा है कि चीन भारत चीन सीमा पर सीमा बढ़ाने के साथ साथ बंकर बनाने का कार्य कर रहा है जो कि युद्ध में काम में जाते है।

लद्दाख और लद्दाख के आस पास के लगभग 7-8 गांव के लोगो का कहना है कि ऐसा 1962 के बाद हुआ है जब दोनों देशो कि सेनाये आमने सामने है।  वहा के लोग काफी दहशत में भी है।

2017 में भी यह विवाद महीनो चला था पर इस बार के सेनिको की तैनाती को देखकर चिंताए काफी बढ़ गयी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *