Rakshabandhan 2020 : रक्षाबंधन 2020 क्यों है खास ?

 

rakshabandhan 2020 भाई बहन का पवित्र पर्व रक्षाबंधन इस समय 3 अगस्त को आ रहा है। इस समय रक्षाबंधन कई शुभ अवशारों के साथ मनाया जा रहा है। इस समय सावनी पूर्णिमा के साथ सावनी नवचत्र भी पड़ रहा है जिससे रक्षाबंधन की शुभता ओर बढ़ जाती है।

सावनी नेक्षत्र का असर पुरे दिन रहेगा। इस समय सावन के आखरी सोमबार को रक्षाबंधन पड़ रहा है। ज्योतिषिचर्या अनीश व्यास ने बताया कि इस बार यानि 2020 का रक्षाबंधन बेहद खाश होगा। क्योकि इस समय दीर्घायु का शुभ मुहरत बन रहा है। इस समय बदरा और ग्रहण का साया भी नहीं पड़ रहा है। 

PM Modi_Raksha_Bandhan

राखी बांधने का शुभ मुहरत शुबह 9 बज कर 27 मिनट से शुरू हो रहा है और यह 21 बजकर 11 मिनट तक रहेगा। दोपहर समय 13 बजकर 45 मिनट से शुरू हो कर 16 बजकर 23 मिनट तक रहेगा और शांय का समय 19 बजकर 01 मिनट से 21 बजकर 11 मिनट तक रहेगा। इस साल रक्षाबंधन पर सर्वसिन्धि और दीर्घायु आयुष्मान योग के साथ सूर्य और शनि के सम षट योग बन रहे है इससे पहले यह सहयोग साल 1991 में बना था। इस योग किसानो और कृषि क्षेत्र के लिए अतिउपयोगी माना जा रहा है। 

rakhi-2020

Rakshabandhan 2020 क्यों मनाया जाता है ?

रक्षाबंधन पर बहन अपने भाई की कलाई में राखी बढ़ती है। और इसके साथ ही पूजा की थाली भी सजाती है। इस थाली में बहन नौ ग्रहो से भाई की पूजा करती है।  और ये मनोकामना करती है कि अन्न, धन और खुशहाली के साथ साथ दीर्घायु देना। 

राजसूय यज्ञ के समय भगवान कृष्ण को द्रोपती ने राखी बाँधी थी। द्रोपती ने रक्षा सूत्र के रूप में अपना आँचल का टुकड़ा बाँधा था। इसी के बाद से भाइयो को बहनो द्वारा राखी बांधने का चलन आया। रक्षाबंधन के दिन ब्राह्मण भी अपने जजमानो को राखी बांधकर उनकी खुशहाली के लिए मनोकामना करते है। 

Raksha_Bandhan

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *