UP में रहस्यमयी बीमारी से हुई कई मोतें |

अभी कोविड के केसेस कम होने शुरू ही हुए थे कि एक नयी मुसीबत आ गयी है ख़ास तौर पर उत्तर प्रदेश में रहने वाले लोगों के लिए इण्डिया टुडे में छपे खबर के मुताबिक़ यु पी में एक रहस्यमई बिमारी फैल रही है।

सरकारी आंकड़ों की माने तो इस बिमारी से अब तक इक्क्यावन लोगों की मौत हो गयी है जिसमें से चालीस बच्चे थे। पर कई मीडिया हाऊस के सूत्रों से बताया है कि ये आंकड़े गलत है।

अस्सी मौतें तो अकेले कौशल्यानगर फ़िरोज़ाबाद में रिपोट की गयी हैं जहाँ से बिमारी शुरू हुयी है। फिरोजाबाद के अलावा ये बिमारी आगरा मैनपुरी एटा वेस्टन यू पी के ओर डिस्टिक में तेजी से फैल रही है द न्यू इंडियन एक्सप्रेस के रिपोर्ट के मुताबिक़ ये पिछले एक दो दिनों में सैकड़ों लोग अस्पतालों में भर्ती हुए हैं

अब इस बीमारी के जो लक्षण हैं वो वाइरल और डेंगू जैसे हैं ऐसे में सवाल ये उठता है कि ये बिमारी है क्या एक्सपर्ट इसे Typhoid fever बोल रहे हैं। अब क्या है स्क्रब टाइफाइड बीमारी क्यों हो रही है, इसका इलाज क्या है ?

कारण :-

डेंगू के साथ ही स्क्रबटाइफ़स :- ये एक कीड़ा है जिसका नाम है जोम्बी कुलिड ये कीड़ा खेत में झाडी में जंगल में मोइस एरिया में पाए जाते है 

लक्षण :-

जब ये कीड़ा काटता है तो दश दिन के अंदर अंदर लक्छ्ण दिखाई देना शुरू हो जाता है
फीवर राइसेस दाग हिडिंग और सिकाल दिख सकता है कीड़े ने जहाँ पर काटा है वहां पर दाग रह जाता है उसी को बोलते हैं स्काड

बचाव :-

इम्यूनोफ्लोरेसेंस और वेल फेलिक्स टेस्ट कराते हैं ये दो टेस्ट से पता चलता है की इसको टाइफाइड है या नहीं। अगर इसको टाइफाइड है या नहीं अगर किसी को ये टाइफाइड हो गया तो उसमें में जो दवा है वो है सेक्सी ईक्लेड हंड्रेड एमजी जो दो बार दिन भर में देना है और सात दिनों तक देना है। और बाकी जो दवा लेते हैं वो लक्षण के आधार पर देते हैं।

इलाज :-

इस स्कर्ब टाइफाइड का बचाव क्या है अगर आप खेत जंगल झाडी इन जगहों पर जा रहे हैं तो फुलसिलीप्स के कपडे पहनना है बूट्स पहनने हैं और घास में सीधे नहीं बैठना चाहिए क्योंकि जो वहां पर वो कीड़ा हमे काट लें।
स्वास्थय अधिकारियों के मुताबिक स्क्रब टाइफाइड्स के केसस बढ़ने के पीछे बारिश और बाढ़ एक सबसे बड़ी वजह है। इससे निपटने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदितयनाथ ने एक पहल की है। सात सितम्बर से सोलह सितम्बर के बीच कुछ स्वास्थ्यय अधिकारी इन डिस्ट्रि में घर घर जाएंगे ये देखने के लिए की किन किन लोगों को वाइरल कोविड नाइनटीन या फिर मौसमी बुखार के लक्ष्ण दिख रहे हैं उम्मीद है तेजी से फैल रही इस बिमारी पर जल्द ही काबू पाया जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *