कब उत्तराखंड के जंगल जलना बंद होंगे?| Uttarakhand ke jangle me AAG

कब उत्तराखंड के जंगल जलना बंद होंगे?

पिछले एक हफ्ते से उत्तराखंड के जंगलो (Uttarakhand ke jangal)में भीषण आग लगी हुयी है। ऐसा हर साल होता है। सरकार कि बहुत से कोशिशों के बाद भी उत्तराखंड के जंगल जलना बंद नहीं हो रहा है। उत्तराखंड सरकार इस विषय में अभी भी विफल नगर रही है।

अभी तक उत्तराखंड में लगभग 300 से ज्यादा जंगलो में आग रिकॉर्ड की गयी है। और यह लगभग 2000 से ज्यादा हेक्टेयर में फैल चुकी है। जो कि पिछले साल में मुकाबले 700 हेक्टेयर ज्यादा है।

स्टेट फारेस्ट डिपार्टमेंट से पड़ा चला है कि पिछले हफ्ते यह 1000 हेक्टेयर के लगभग थी जो कि इस हफ्ते बढ़ कर 2000 हेक्टेयर तक पहुंच चुकी है।  इसका मुख्य कारण उत्तराखंड में चलने वाली तेज हवाएं माना जा रहा है। पिछले हफ्ते आग लगभग 200 जंगलो में लगी थी और पिछले 2-3 दिनों में यह बढ़ कर 300 पहुंच चुकी है।

Uttarakhand forest fire

उत्तराखंड के जंगलो में आग लगने का कारण

उत्तराखंड के जंगलो में आग लगना यह बहुत बड़ी समस्या है।

जब से उत्तराखंड नया राज्य बना है तब से अभी तक लगभग 45000 हेक्टेयर जंगलो में आज लग चुकी है।  और अगर सरकार इस पर कोई ठोस कदम नहीं उठाएगी तो यह बढ़ता ही जायेगा।

अभी तक उत्तराखंड के जंगलो में 2016 में सबसे भीषण आग लगी है।  जिसमे 4500 हेक्टेयर से ज्यादा जंगलो में आग लगी थी।

सरकार द्वारा चीफ कन्सेर्वटिव ऑफ़ फॉरेस्ट्स के नाम पर समिति बनाई गयी थी पर फारेस्ट अफसर से बात करने पर पता चलता है सरकार के तरफ से इसमें कम बजट दिया जाता है। जिससे कि नहीं अफसर को सर्वे और रिसर्च करने को मिलता है और नहीं ही सही से अग्नि विनाशक यंत्र दिए जाते है। इस तरह सरकार के पास कोई ठोस पॉलिसी नहीं है।

Uttarakhand ke jangal me aag

उत्तराखंड राज्य से बाहर फसें लोगो के लिए अच्छी खबर

समाधान:

सबसे पहले पता लगाना कि जंगलो में आग लगने वाले स्पॉट्स कहा कहा है।

जंगलो का एक खाका तैयार करना कहा ज्यादा आग लगती है।  और इसे रेटिंग भी दे सकते है।

या रेटिंग सिस्टम लगाने होंगे। ताकि पता चल सके कहा ज्यादा आग लगती है और कहा कम आग लगती है।

स्टेट हेडक्वाटर्र डिस्ट्रिक्ट हेडक्वाटर्र और ब्लॉक लेवल पर इस स्थिति को निपटने के लिए मॅनॅग्मेंट सिस्टम बनाया जाना चाहिए।

और अंत में जो उत्तराखंड के लोग है उनका सहयोग बहुत जरुरी है। जैसे छोटी आग है तो तुरंत उसे भुझा दे, ठीक समय पर फारेस्ट डिपार्टमेंट को खबर कर सकते है। अगर कोई ऐसा करता है तो उसकी शिकायत कर सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *